कॉर्पोरेट फाइनेंस क्या है? | What is corporate finance in hindi

नमस्कार दोस्तों, आपमें से अधिकांश लोग कॉर्पोरेट फाइनेंस (Corporate Finance) के बारे में जरूर सुना होगा, आखिर आप लोगों ने कभी सोचा हैं, कॉर्पोरेट फाइनेंस क्या हैं? (What is Corporate Finance in Hindi). यदि नहीं, तो आपलोगों के जानकारी के लिए बता दें कि कॉर्पोरेट का मतलब है, संगठित, संयुक्त, सम्मिलित, सामाजिक, सामूहिक होता हैं।

सामान्य भाषा में समझे तो कॉर्पोरेट फाइनेंस में सामूहिक फाइनेंसियल प्लानिंग और फ्रीडम की बात होती हैं। किसी भी समूह या कंपनी की सही तरीके से संचालन करने के लिए जो वित्तीय प्रबन्ध की व्यवस्था करता हैं, उसे ही कॉर्पोरेट फाइनेंस कहा जाता हैं। दोस्तों Corporate Finance क्या हैं? के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे।

कॉर्पोरेट फाइनेंस क्या होता हैं? (What is Corporate Finance in Hindi)

जैसा की हमने ऊपर देखा की कॉर्पोरेट फाइनेंस एक प्रकार की सामूहिक वित्त प्रणाली है। कॉर्पोरेट फाइनेंस फंडिंग के सभी स्रोतों (Sources) के निवेश से सम्बंधित निर्णय लेता है। कॉर्पोरेट फाइनेंस मुख्य रूप से लंबी और अल्पकालिक वित्तीय योजना और विभिन्न रणनीतियों को तैयार करके समूह या शेयरधारक को अधिक से अधिक लाभ देने का प्रयाश करता है।

कॉर्पोरेट फाइनेंस की गतिविधि किसी कंपनी या अन्य स्थान पर निवेश करने से लेकर बैंकिंग प्रणाली तक सिमित होती है। मान लेते है की कोई भो कंपनी इस समय घाटे में चल रहा है, तो उस कंपनी के मालिक अपने शेयर को छोटे-छोटे टुकड़े करके उसे शेयर मार्केट बेच देता है, तो इस प्रकार जमा राशि को सामूहिक वित्त प्रणाली कहा जाता है।

कॉर्पोरेट फाइनेंस को एक छोटे से उदाहरण से समझते है, मान लें की कोई भी व्यक्ति एक बिज़नेस प्लान कर रहा है, लेकिन उनके पास निवेश करने के लिए पूंजी का आभाव है, वह व्यक्ति बैंक, शेयर मार्केट, सामूहिक कम्पनी, अलग-अलग व्यक्तियों से निवेश के लिए जो पूंजी एकत्रित करता है, उसे कॉर्पोरेट फाइनेंस कहा जाता है।

Read Also :- पब्लिक फाइनेंस क्या है?

कॉर्पोरेट लोन कैसे लें (How to Get Corporate Loan)

जब भी व्यापारी भी कोई व्यापर शुरू करने या किसी कपमनय खरीदने के लिए जो ऋण (Loan) लेता है। वो अक्सर कॉर्पोरेट लोन ही होता है। किसी भी बैंक कॉर्पोरेट लोन देने से पहले व्यारपर के बारे में सभी प्रकार की जानकर हासिल कर लेता है (जैसे :- कंपनी के प्रोजेक्ट, टर्नओवर, बैलेंस शीट इत्यादि) को देखकर लोन देने का निर्णय लेता है।

कोई भी कॉर्पोरेट फाइनेंस सेक्टर लोन देने से पहले कंपनी के बारे में गहन जानकारी प्राप्त करते हैं। इसकी जिम्मेदारी बैंक या फाइनेंसियल संस्थान को दिया जाता हैं। यदि आवेदक लोन चुकाने में समर्थ है, तभी बैंक उसे लोन देता हैं। लोन देने से पहले आवेदक को कॉर्पोरेट लोन पर कितना ब्याज लगेगा, EMI कितनी बनेगी, अगर लोन नहीं चुकाया तो क्या होगा एवं बैंक/फाइनांस कंपनियों के सभी नियम व शर्तो की जानकारी दिया जाता हैं।

कॉर्पोरेट लोन लेने के लिए आवश्यक दस्तावेज:-

  • पहचान पत्र – आधार कार्ड, वोटर आईडी, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पास पोर्ट, इत्यादि।
  • एड्रेस प्रूफ – बिजली बिल, राशन कार्ड,
  • ट्रेड लाइसेंस
  • जीएसटी नंबर
  • बैंक अकाउंट स्टेटमेंट
  • आयकर  प्रमाण पत्र
  • कंपनी के रिकॉर्ड और बैलेंस शीट

कॉर्पोरेट लोन लेने के लिए नियम और शर्तें :-

  • कॉर्पोरेट लोन लेने के लिए कम से कम बिज़नेस पांच वर्ष पुराण होना चाहिए।
  • कंपनी लगातार पिछले दो वर्षों से लाभ में चल रहें हो।
  • कंपनी के सभी प्रकार के रिकॉर्ड और बैलेंस शीट।
  • कंपनी विश्वसनीय और अच्छी क्रेडिट रेटिंग वाली होनी चाहिए।
  • यदि आप पहले से पहले भी लोन के लिए आवेदन किया है, तो बैंक आपके रिकॉर्ड और भुगतान की स्थिति की जाँच करेगा।

Read Also :- पर्सनल फाइनेंस क्या है?

कॉर्पोरेट लोन आवेदन कैसे करें? (How to Apply For Corporate Loan)

वर्त्तमान समय में अधिकांश बैंक और अन्य फाइनेंस संस्थान कॉर्पोरेट लोन मुहैया करवाता हैं। आप अपने सुविधानुसार बैंक या फाइनेंसियल संस्थान का चयन करके कॉर्पोरेट लोन लेने के लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन कर सकते हैं। सभी बैंक और फाइनेंसियल संस्थान का ऑफिसियल वेबसाइट आपको इंटरनेट पर आसानी से मिल जाएगा।

यदि आप ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं, तो आप चुने गए बैंक की वेबसाइट पर जा सकते हैं और ऑनलाइन उपलब्ध फार्म भर सकते हैं। फॉर्म भरने के बाद आप इसकी स्थिति भी ऑनलाइन ही चेक कर सकते हैं। यदि आपका आवेदन स्वीकार हो जाएगा, तब आपको बैंक या फाइनेंस संस्थान में जाकर सभी दस्तावेज जमा लरना होगा। उसके बाद आपको लोन की स्वीकृति मिल जाएगी।

यदि आप किसी कारणवश लोन के लिए ऑनलाइन आवेदन नहीं कर सकते हैं, तो आप अपने नजदीकी बैंक या फाइनेंस संस्थान में जाकर संबंधित कर्मचारी से मिल लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं। दोनों स्थिति में आपके पास सभी आवश्यक दस्तावेज रहने चाहिए, तभी आपके आवेदन पर विचार किया जाएगा।

Conclusion

दोस्तों आज के इस पोस्ट में हमने कॉर्पोरेट फाइनेंस क्या हैं? (What is Corporate Finance in Hindi) और कॉर्पोरेट लोन कैसे मिलता हैं। इस विषय पर विस्तार से चर्चा हैं, उम्मीद करता हूँ की इस पोस्ट कॉर्पोरेट फाइनेंस क्या हैं? (What is Corporate Finance in Hindi) की जानकारी आप सभी को पसंद आई होगी।

यदि अआप्को हमारी इस पोस्ट कॉर्पोरेट फाइनेंस क्या हैं? (What is Corporate Finance in Hindi) से संबंधित कोई सवाल या सुझाव हैं, तो आप हमे कमेंट करके जरूर बताएं। धन्यवाद्!!

अगर आपको यह पसंद आई है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें! और हमे Facebook पर भी फॉलो कर सकते है..!! धन्यवाद

Spread the love

Leave a Comment