Vinod Khanna Biography in Hindi | विनोद खन्ना का जीवन परिचय

    दोस्तों आज के इस लेख में मैं आपके बेहद रोचक और नई पोस्ट लेकर आया हूँ। इस लेख में हम बात करेंगे भारतीय सिनेमा जगत के सुप्रशिद्ध अभिनेता और इनका भारतीय राजनीती में भी असरदार भूमिका निभाया है। दोस्तों हम बात कर रहे है, Vinod Khanna जी के, विनोद खन्ना भारतीय सिनेमा में एक अलग पहचान बनाया है।

    दोस्तों इस लेख में हम जानेंगे कि विनोद खन्ना जी दो-दो शादी क्यों किये, विनोद कन्ना जी अपना धन-दौलत छोड़कर आध्यात्म को क्यों अपनाया, विनोद खन्ना जी के एक सफल अभिनेता के साथ सफल राजनीति के पीछे कि कहानी, विनोद खन्ना जी के पत्नी का नाम और वो अभी किस हालत में है,  जैसे ओर भी महत्पूर्ण जानकारी आपको देंगे।

    दोस्तों इस लेख में हमने विनोद खन्ना से सम्बंधित संपूर्ण प्रश्न का उत्तर दिया है, जैसे:- Vinod Khanna  Biography, Vinod Khanna Birth, Age And Introduction, Vinod Khanna Education, Vinod Khanna Family, Vinod Khanna Career, Vinod Khanna Biography in Hindi, Vinod Khanna Political Career.

    Vinod Khanna Biography in Hindi

    Vinod Khanna biography
    विनोद खाना का जन्म भारत के आज़ादी से पहले ब्रितानी  के पेशावर में हुआ था। इनके पिता किशनचंद खन्ना उस समय के भारत के बहुत बड़े व्यापारियों की सूचि में शामिल था। इनके पिता का टेक्सटाइल, डाई और केमिकल का व्यापर हुआ करता था।

    विनोद खन्ना के परिवार में उनले माता-पिता के आलावा तीन बहाने और एक भाई था। कहा जाता है, कि विनोद खन्ना बचपन में बहुत शांत और शर्मीले स्वाभाव का लड़का था। विनोद खन्ना के करीबी कहते है, कि एक दिन उनके विद्यालय में किसी समारोह में उनके शिक्षक ने जबरदस्ती नाटक में भाग लेने को कहा और वे इस समारोह में भाग लिए। इसके बाद इनका कला में रूचि बढ़ने लगा।

    विनोद खन्ना अभिनेता बनाना चाहते थे, लेकिन उनके पिता नहीं चाहते थे कि उनका बेटा फिल्मो में जाये लेकिन उनकी माँ ने उनके पिता को मनाया और फिर विनोद खन्ना के पिता ने उनके सामने एक शर्त रख दी कि ”उनके पास सिर्फ दो साल का वक़्त है अगर सफल हो गए तो ठीक वरना फिर उनको वापस अपने बिज़नस में आना पड़ेगा”  और विनोद खाना ने यह शर्त मंजूर कर लिया।

    Vinod Khanna History In Hindi ( विनोद खन्ना के इतिहास )

    विनोद खन्ना का जन्म 06 अक्टूबर 1946 में भारत के पेशावर में हुआ था। उस समय भारत और पाकिस्तान का विभाजन नहीं हुआ था, लेकिन सम्पूर्ण भारत में आज़ादी कि लहर परचम पर था। वर्ष 1947 में हमारा देश आज़ाद हुआ और उसी समय भारत पाकिस्तान का विभाजन भी हो गया।

    विभाजन के बाद विनोद खन्ना के पिता किशनचंद अपने पूरे परिवार के साथ भारत आ गए, और महाराष्ट्र के मुंबई शहर में बस गया। भारत आने के बाद इनके परिवार को आर्थिक तंगी का सामना नहीं करना पड़ा क्योंकि विनोद खन्ना के पिता जी का टेक्सटाइल, डाई और केमिकल का व्यापर था।

    Vinod Khanna Education :- विनोद खन्ना की प्रारंभिक शिक्षा की शुरुआत मुंबई के ”Queen Mary School” यहां इन्होने दूसरी कक्षा तक पढाई किया। इसके बाद इनके पिता परिवार समेत दिल्ली चले गए। दिल्ली आने के बाद विनोद खन्ना ”St. Xavier’s High School” में नामांकन करवाया।

    इसके बाद दिल्ली के ही ”Delhi Public School” पढाई पूरा किया। वर्ष 1960 में पूरे परिवार समेत दुबारा मुंबई आ गया। वर्ष 1960 में ही नासिक के ”Barnes School and Junior College” में दाखिला करवाया और हाई स्कूल की शिक्षा पूरा किया। उसके बाद उन्होंने वाणिज्य (Commerce) विषय को चुना।

    इसके पढाई के लिए इन्होने मुंबई के ”Sydenham College of Commerce & Economics” में दाखिला करवाया। यहाँ से विनोद खाना जी ने स्नातक की पढाई पूरा किया। अपनी पढाई के दौरान ही इन्होंने फिल्मों में काम करने का फैसला किया। इनके पिता जी चाहते थे, कि फिल्मों में काम नहीं करें, लेकिन इनके माता जी ने इनका साथ दिया।

    Read Also

    Vinod Khanna Biodata

    नाम विनोद खन्ना
    जन्म तिथि 06 अक्टूबर 1946
    जन्म स्थान पेशावर
    निवास स्थान मुंबई ( महाराष्ट्र )
    पिता किशनचंद खन्ना
    माता कमला खन्ना
    उम्र 71 वर्ष में मृत्यु
    शैक्षिणिक योग्यता स्नातक ( वाणिज्य )
    पेशा अभिनेता और राजनेता
    नागरिकता भारतीय
    धर्म हिन्दू

    Vinod Khanna Family

    विनोद खन्ना और गीतांजलि ने वर्ष 1971 में शादी के पवित्र बंधन में बंध गए।  विनोद खन्ना और गीतांजलि के मुलाकात उनके कॉलेज के दिनों में हुआ था। विनोद खन्ना और गीतांजलि अपने संबंघ को लेकर काफी गंभीर थे । ये दोनों एक-दूसरे एक दूसरे को लगभग एक वर्ष से डेट कर रहे थे। वर्ष 1971 में दोनों शादी कर लिया।

    माना जाता है कि विनोद खन्ना जी के आध्यात्म के प्रति लगाव और ओशो रजनीश के संपर्क में आने के कारण  विनोद खन्ना और गीतांजलि के बीच बढाती जा रही थी। 14 वर्षो तक वैवाहिक जीवन व्यतीत करने के बाद इनदोनों रिश्ता में दरार पर गया। वर्ष 1985 में विनोद खन्ना और गीतांजलि एक-दूसरे से तलाक ले लिया।

    विनोद खन्ना जी को गीतांजलि से दो पुत्र कि प्राप्ति हुआ:- जिसका नाम है, अक्षय खन्ना और राहुल खन्ना। गीतांजलि कि शादी से पहले का नाम:- ”Geetanjali Taleyarkhan” विनोद खन्ना  से शादी के बाद गीतांजलि ने अपना उपनाम बदलकर गीतांजलि खन्ना कर लिया। गीतांजलि मॉडल और थिएटर में काम कर चुकी है।

    Vinod Khanna Second Wife Name :- गीतांजलि से तलाक के बाद विनोद खन्ना जी आध्यात्म के लिए ओशो रजनीश के अमेरिका में स्तिथ आश्रम चले गए। कहा जाता है कि वहां जाकर बर्तन धोये, झाड़ू लगाने जैसे कई काम किये। परन्तु सिनेमा ने वर्ष 1987 में उसे भारत खिंच लाया। वर्ष 1988 में एक पार्टी के दौरान विनोद खन्ना का मुलाकात कविता दफ्तरी से हुई।

    कविता दफ्तरी के पिता का नाम शरयु दफ्तरी था, जो पेशे से इंडस्ट्रियलिस्ट थे। विनोद खन्ना और कविता दफ्तरी के बीच नजदीकियां बढ़ता गया। तलाक के पांच वर्ष पश्चयात वर्ष 1990 में कविता और विनोद खन्ना ने विवाह कर लिया। कविता, विनोद खन्ना से उम्र में 16 वर्ष छोटी थी। इनदोनों का वैवाहिक जीवन सफल रहा। दूसरी पत्नी कविता से भी इन्हें दो बच्चे हुए जिनका नाम साक्षी और श्रद्धा है।

    Vinod Khanna Career In Hindi ( विनोद खन्ना के करियर कि शुरुआत )

    वर्ष 1968 में विनोद खन्ना ने अपनी फ़िल्मी करियर की शुरुआत फिल्म ” मन के मीत ” में काम किया, जो एक तमिल फिल्म का रीमेक था। करियर के शुरूआती दौर में विनोद खन्ना को सपोर्टिंग और अन्य भूमिका में कार्य करने का मौका दिया गया। विनोद खन्ना के बेहतरीन प्रदर्शन के वजह से वर्ष 1971 में मुख्य भूमिका देखा गया

    वर्ष 1971 में फिल्म ”हम तुम और वो ” में मुख्य भूमिका में कार्य किया। इस फिल्म में विनोद खन्ना के अभिनय को लोगों ने खूब पसंद किया और यहीं से हिंदी फिल्म के के नया और सदाबहार सितारा का उदय हुआ। विनोद खन्ना ने लगभग 15 वर्षों तक अपनी बादशाहत कायम रखा। इसी दौरान के उनके प्रमुख फिल्में:- अचानक, फरेबी, गद्दार, कुर्बानी, मुकद्दर का सिकंदर, अमर अकबर एंथनी, इत्यादि

    इसी दौरान विनोद खन्ना ओशो रजनीश केव संपर्क में आया और वे अपने ज़िन्दगी में शांति के लिए आध्यात्म को अपनाना का फैसला किया। इसी दौरान दौरान सदी के महानायक अमिताभ बच्चन का उदय हुआ और विनोद खन्ना के गैर मौजूदगी में लोगों ने अमिताभ बच्चन को उनका विकल्प मान लिया।

    वर्ष 1987 में सिनेमा की यादें विनोद खन्ना को अध्यात्म से फिर दुबारा सिनेमा जगत ला कर खड़ा कर दिया। विनोद खन्ना ने अपनी फ़िल्मी करियर की दूसरी पारी की शुरुआत वर्ष 1987 में फिल्म ” इंसाफ ” से किया। विनोद खन्ना की फिल्म की दूसरी पारी भी काफी सफल रहा। इसके बाद वो फिर वो सिनेमा जगत में अपना मुकाम हासिल कर लिया।

    Vinod Khanna Awards In Hindi

    विनोद खन्ना ने अपने जिंदगी में बहुत साड़ी फिल्मों में काम किया। विनोद खन्ना ने बहुत सारे अवार्ड्स और उपब्लिधियाँ हासिल किया। उनके जीवन के कुछ प्रमुख अवार्ड्स के नाम:-

    • 1975 – Filmfare Best Supporting Actor Award for Haath Ki Safai.
    • 1977 – Filmfare Nomination as Best Supporting Actor for Hera Pheri.
    • 1977 – Filmfare Nomination as Best Actor for Shaque.
    • 1979 – Filmfare Nomination as Best Supporting Actor for Muqaddar Ka Sikander.
    • 1981 – Filmfare Nomination as Best Actor for Qurbani.
    • 1999 – Filmfare Lifetime Achievement Award.
    • 2005 – Stardust Awards – Role Model for the Year.
    • 2007 – Zee Cine Award for Lifetime Achievement.
    • 2017 – Dadasaheb Phalke Award (Posthumously).

    Vinod Khanna Politics Career ( विनोद खन्ना के राजनितिक करियर )

    विनोद खन्ना सफल अभिनेता के साथ-साथ एक कुशल राजनीतिज्ञ भी थे। वर्ष 1997 में विनोद खन्ना जी पहली बार राजनीति में कदम रखा, और भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हो गया। वर्ष 1999 में लोकसभा सांसद के गुरदासपुर से चुनाव लड़े और वहां उन्होंने जीता हाशिल किया।

    वर्ष 2002 में विनोद खन्ना जी ने संस्कृति और पर्यटन मंत्री पद का कार्य भार संभाला।  06 महीने के बाद उन्हें विदेश मामलों के मंत्रालय में राज्य मंत्री बना दिया गया। वर्ष 2004 में वह दोबारा गुरदासपुर से जीतकर संसद पहुंचे। वर्ष 2009 के लोकसभा के चुनाव में विनोद खन्ना जी चुनाव हार गया।

    वर्ष 2014 में नरेंद्र मोदी की लहर में उन्होंने चुनाव लड़ा विनोद खन्ना ने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और गुरदासपुर सीट से उस वक्त के सांसद प्रताप सिंह वाजवा को 8 हजार वोट के अंतर से पराजित किया। इस तरह चौथी बार मौजूदा 16वीं लोकसभा के सदस्‍य बने। संसद में वह कई कमेटियों के भी सदस्‍य रहे।

    01 सितंबर, 2014 से वह रक्षा मामलों पर गठित स्‍टैंडिग कमेटी के सदस्‍य थे। इसके अलावा कृषि मंत्रालय की परामर्श कमेटी के भी सदस्‍य थे।

    Vinod Khanna Death Date ( विनोद खन्ना का निधन )

    विनोद खन्ना का निधन 71 वर्ष की आयु में 27 अप्रैल, 2017 को हो गया। उनकी मौत की खबर सिनेमा जगत को ही नहीं बल्कि राजनीति गलियारों को भी गमगीन कर दिया। सदी के महानायक अमिताभ बच्चन अपनी फिल्म ”सरकार 3 ” का प्रमोशन कर रहे थे, जैसे ही उनको विनोद खन्ना की मौत की आया। उन्होंने अपना ‌इंटरव्यू बीच में ही छोड़ दिया और उनके परिवार से मिलने हॉस्पिटल पहुंच गए।

    विनोद खन्ना के निधन पर बॉलीवुड समेत राजनीती के दिग्गजों ने दुःख जताया। भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी विनोद खन्ना के निधन पर दु:ख जताया है। ट्वीट कर उन्होंने लिखा, ‘विनोद खन्ना एक पॉपुलर एक्टर के साथ समर्पित नेता और अद्भुत व्यक्ति थे। उनके निधन पर दुखी हूं। मेरी संवदनाएं उनके परिवार के साथ हैं।

    विनोद खन्ना जी काफी लम्बे समय से कैंसर से पीड़ित थे। उनका निधन मुंबई के रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल हुआ।

    Facts Of Vinod Khanna

    • विनोद खन्ना का जन्म 6 अक्टूबर 1946 पेशावर (पाकिस्तान) में हुआ।
    • विनोद खन्ना पांच भाई बहनों में से एक थे, जिनमे उनके एक भाई और तीन बहने हैं।
    • आजादी के समय हुए बंटवारे के बाद उनका परिवार पाकिस्तान से मुंबई आकर बस गया।
    • विनोद खन्ना बचपन में बेहद शर्मीले थे, स्कूल के दौरान उन्हें एक टीचर ने जबरदस्ती नाटक में उतार दिया और उन्हें अभिनय करना पसंद आ गया।
    • विनोद खन्ना अपने पढ़ाई के दौरान विनोद खन्ना ने ‘सोलवां साल’ और ‘मुगल-ए-आज़म’ जैसी फिल्में देखीं और इन फिल्मों ने उन पर गहरा असर छोड़ा।
    • विनोद खन्ना, राजेश खन्ना को बेहद पसंद करते थे।
    • विनोद खन्ना को सुनील दत्त ने ”मन का मीत” (1968) में विलेन के रूप में लांच किया। यह फिल्म दत्त ने अपने भाई को बतौर हीरो लांच करने के लिए बनाया गया था।
    • मुख्य भूमिका में आने से पहले विनोद खन्ना सहायक या खलनायक के रूप में काम किया करते थे:- आन मिलो सजना, पूरब और पश्चिम, सच्चा झूठा जैसी फिल्मों में नजर आ चुके है।
    • गुलजार द्वारा निर्देशित ”मेरे अपने” (1971) से विनोद खन्ना को चर्चा मिली और बतौर नायक वे नजर आने लगे।
    • मल्टी टैलेंटेड अभिनेता विनोद खन्ना उस दौर के स्टार्स अमिताभ बच्चन, राजेश खन्ना, सुनील दत्त आदि के साथ फिल्में करते थे।
    • अमिताभ बच्चन और विनोद खन्ना की जोड़ी को दर्शकों ने काफी पसंद किया। हेराफेरी, खून पसीना, अमर अकबर एंथोनी, मुकद्दर का सिकंदर ब्लॉकबस्टर साबित हुआ।
    • सफलता के शिखर पर रहते हुए 1982 में विनोद खन्ना ने अचानक ऐसा फैसला लिया कि फिल्म इंडस्ट्री में हड़कंप मच गया। विनोद अपने आध्यात्मिक गुरु रजनीश (ओशो) की शरण में चले गए।
    • वर्ष 1999 में विनोद खन्ना को उनके इंडस्ट्री में योगदान के लिए फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा गया था

    Frequently Asked Questions

    Q.1 - विनोद खन्ना का जन्म कब और कहां हुआ?

    विनोद खन्ना का जन्म 06 अक्टूबर 1946 में भारत के पेशावर (पाकिस्तान) में हुआ था।

    Q.2 - विनोद खन्ना के पिता का नाम क्या है?

    विनोद खन्ना के पिता जी का नाम Kishanchand Khanna है।

    Q.3 - विनोद खन्ना के बच्चे कितने हैं?

    विनोद खन्ना जी चार बच्चे है जिसका नाम Akshaye Khanna, Rahul Khanna, Sakshi Khanna, Shraddha Khanna है।

    Q.4 - विनोद खन्ना की पत्नी का क्या नाम है?

    विनोद खन्ना का पहली पत्नी का नाम गीतांजलि खन्ना है और दूसरी पत्नी का नाम कविता खन्ना है।

    Q.5 - विनोद खन्ना की मृत्यु कब हुई थी?

    विनोद खन्ना का मृत्यु रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में 71 वर्ष की आयु में 27 अप्रैल, 2017 को हो गया।

    Conclusion

    यदि हमारी यह लेख आपको अच्छी लगी हो तो आप हमारी इस लेख को अपने दोस्तों , परिवार और सोशल मीडिया पर साझा करे, ताकि विनोद खन्ना सम्बंधित इस जानकारी का लाभ ओर सब भी उठा सके।

    दोस्तों हमने आपको इस लेख  सबसे बेहतर तथ्य देने का भरपूर प्रयास किया है, यदि आपको हमारी लेख में किसी भी प्रकार की कमी महसूस हो रही है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है। हमारी इस पोस्ट से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव है तो वह भी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं।धन्यवाद्!!

    हेलो दोस्तों नमस्ते! मैं आपके साथ infowala.co.in वेबसाइट पर Biography, Business Ideas और Make Money Online से जुड़ी जानकारी शेयर करूँगा। मेरे द्वारा लिखे गए सभी पोस्ट आपको पसंद आये यही मेरा कोशिश रहेगी।

    1 COMMENT

    1. Thank you so much for providing such kind of valuable information. Really I appreciate you!

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here