म्यूच्यूअल फंड कितने प्रकार का होता है? | Types of Mutual Funds

नमस्कार दोस्तों आजकल अधिकांश लोग अपनी इन्वेस्टमेंट को लेकर काफी चिंतित रहते है। बहुत सारे ऐसे भी व्यक्ति है, जिनको समझ नहीं आ रहा है कि वो कहां इन्वेस्ट करें और भविष्य में उससे अधिक लाभ ले सके। दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम बात करेंगे म्यूच्यूअल फंड्स क्या होता है?, Types of Mutual Funds in Hindi, म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश (Invest) करना सही है या नहीं?, जैसे अनेक प्रकार के म्यूच्यूअल फंड्स कि जानकारी देंगे।

यदि आप भी म्यूच्यूअल फंड्स (MF) के स्कीम में निवेश करना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए आपको म्यूच्यूअल फंड्स का जानकारी होना आवश्यक और आपको थोड़ा होमवर्क करने की जरूरत है। म्यूचुअल फंड्स कई प्रकार के होते हैं। आपको अपने वित्तीय लक्ष्य, निवेश की अवधि और जोखिम उठाने की क्षमता के हिसाब से सही म्यूचुअल फंड्स का चुनाव करना, इत्यादि।आइए म्यूचुअल फंड्स  की इन स्कीम के बारे में जानने की कोशिश करते हैं।

म्यूच्यूअल फंड्स क्या है? ( What is Mutual Funds)

सबसे से पहले हम आपको म्यूच्यूअल फंड्स क्या है? इसके बारे में जानकारी दे दें। आप में से ज्यादातर लोगों को म्यूच्यूअल फंड्स के बारे में सही जानकारी नहीं होने के कारण आप लोग इसमें निवेश करने से डरते होंगे, लेकिन मैं आप सब के जानकारी के लिए बता दें कि दरअसल, बहुत सारे निवेशकों की धनराशि जमा होने पर ही म्यूच्यूअल फंड का निर्माण होता है। इस फंड के प्रबंधन के लिए फंड प्रबंधक नियुक्त होते हैं।

म्यूचुअल फंड में कई निवेशकों का पैसा एक जगह जमा किया जाता है, और इस फंड में से फिर बाज़ार में निवेश किया जाता है। म्यूचुअल फंड को एसेट मैनेजमेंट कंपनियों (AMC) द्वारा मैनेज किया जाता है। प्रत्येक AMC में आमतौर पर कई म्यूचुअल फंड स्कीम होती हैं।

सामान्य भाषा में समझे तो कई लोगों का निवेश किया हुआ पूंजी को म्यूचुअल फंड के एसेट मैनेजमेंट कंपनियों (AMC) द्वारा मैनेज किया जाता है। वो निवेशकों के पैसा को अलग- अलग जगह लगाकर उसका सही इस्तेमाल करके निवेशकों को अधिक से अधिक लाभ देने का प्रयाश करता है।

Note :- Mutual Funds में आप अपने सुविधा और जरुरत के अनुसार एक निश्चित समय के लिए निवेश कर सकते है। जिस प्रकार आप बैंक में Fixed Deposit (FD) करते है, उसी प्रकार आप म्यूच्यूअल फण्ड में भी कर सकते है। ध्यान रहे आप अपने जरुरत के किसी भी प्रकार के जरुरत के समय आसानी से निकल सकते है, और यह आपको एफडी से ज्यादा मुनाफा देता है।

म्यूच्यूअल फंड कितने प्रकार का होता है? (Types of Mutual Funds)

Types of Mutual Funds

म्यूच्यूअल फंड्स मुख्य रूप चार प्रकार के होते है:-

  • Equity Funds or Growth Funds
  • Debt Funds
  • Hybrid Funds or Balanced Funds
  • Money Market Funds

1. Equity Funds या Growth Funds क्या होता है?

Equity Growth Funds :- यह म्यूच्यूअल फंड्स का सबसे बड़ा और अच्छा फंड्स है। यदि आप हाई रिस्क के साथ लम्बे समय के लिए निवेश करना चाहते है, तो आपके ली इक्विटी या ग्रोथ फंड्स सब अच्छा है। यदि आप इसमें हाई रिस्क पर निवेश करते है तो आपको इसमें ज्यादा मुनाफा मिलेगा।

Equity Funds or Growth funds में निवेश किया हुआ पूंजी के अधिकांश भाग शेयर मार्केट में निवेश किया जाता है। इसमें निवेशक सिर्फ अपना निवेश कर दें, बाकी का काम म्यूच्यूअल फंड्स के अधिकारी करते है। यदि आप इसमें लम्बे समय तक इसमें निवेश करते है, तो आपको अधिक लाभ मिल सकता है।

Types of Equity Mutual Funds in Hindi :-

  • Large Cap Fund (लार्ज कैप फंड)
  • Mid Cap Fund (मिड  कैप फंड)
  • Small Cap Fund (स्मॉल कैप फंड)

Equity Funds Classification According to Market in Hindi

  • Large Cap Funds
  • Mid Cap Funds
  • Small Cap Funds
  • Large and Mid Cap Funds
  • Multi-cap Funds

2. Debt Funds क्या होता है?

Debt Funds in Hindi :- डेब्ट फंड्स, म्यूच्यूअल फंड्स का सबसे ज्यादे सुरक्षित फंड्स माना जाता है, क्योंकि इसमें बिल्कुल Low  Risk पर काम होता है। आमतौर पर समझे तो Debt Funds में 0% रिस्क होता है। यह फंड्स उन लोगों के लिए है, जो निवेश के साथ रिस्क नहीं लेना चाहते है।

Debt Funds आमतौर पर कम समय (Short Terms) के लिए होता है। यदि निवेशक चाहे तो इसमें लबे समय तक निवेश कर सकते है। डेब्ट फंड्स में निवेश किया हुआ पूंजी खास तौर पर सरकारी बॉन्ड्स, कॉर्पोरेट बॉन्ड्स, इत्यादि सुरक्षित जगहों पर निवेश किया जाता है। इसमें आप अपने अनुसार निवेश कर सकते है।

Types of Debt Mutual Funds in Hindi :-

  • Short-Term Funds (शॉर्ट टर्म फंड्स)
  • Ultra Short Term Funds (अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड्स)
  • Liquid Funds (लिक्विड फंड)
  • Income Funds (इनकम फंड्स)
  • Monthly Income Plans ( MIPs ) (मंथली इनकम प्लान)
  • Fixed Maturity Plans (फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान)
  • Gilt Funds (गिल्ट फंड)

3. Hybrid Funds या Balanced Funds क्या होता है?

Hybrid Funds in Hindi या Balanced Funds in Hindi :- यह फंड्स Equity Funds और Debt Funds को मिलकर बनाया गया है। इस फंड्स को सामान्य भाषा में संतुलित फंड्स कहा जाता है। बैलेंस्ड या हाइब्रिड फंड्स उनलोगों के लिए उपयुक्त है, जो न तो ज्यादा रिस्क लेना चाहते है, और न ही 0% रिस्क लेना चाहते है।

Hybrid Funds in Hindi या Balanced Funds का निर्माण उन लोगों के लिए किया गया है, जो Equity Funds और Debt Funds में निवेश करना चाहते है। इस फंड्स में निवेश किया हुआ पूंजी 50% रिस्क पर और 50% बिना पर लगाया जाता है। यह निवेशक पर निर्भर करता है कि वह कितना % रिस्क लेना चाहता है।

Types of Hybrid Funds in Hindi (Hybrid Funds या Balanced Funds के प्रकार?)

  • Multi Asset Allocation Funds
  • Balanced Hybrid Funds
  • Aggressive Hybrid Funds
  • Dynamic Asset Allocation or Balanced Advantage Fund
  • Conservative Hybrid Funds
  • Equity Savings Fund
  • Arbitrage Fund

4. Money Market Funds क्या होता है?

मनी मार्केट फंड भी एक प्रकार के म्‍यूचुअल फंड की एक कैटेगरी है। यदि कोई भी निवेशक Low Risk पर कम समय के लिए निवेश करना चाहते है, तो उसके लिए मनी मार्केट फंड्स उपयुक्त है। यह भी डेब्ट फंड्स के तराश कार्य करता है, परन्तु यह एक Short Term Investment प्रणाली है।

Money Market Funds में कोई भी निवेशक कम समय में Low Risk पर अच्छी कमाई कर सकता है। मिनी मार्केट फंड में निवेशक को किसी भी प्रकार का नहीं उठाना परता है। और हाँ एक बात का ध्यान रखें इसमें आपको हाई रिटर्न नहीं मिलने वाला है। मनी मार्केट खास तौर पर ट्रेज़री बिल, कमर्सियल पेपर, इत्यादि में निवेश करता है।

Types of Money Market Funds in Hindi (Money Market फंड्स कितने प्रकार के होते है?)

  • Prime Money Funds
  • Government Money Funds
  • Treasury Funds
  • Tax-Exempt Money Funds

Note :- मेरे द्वारा दिया गया सभी (म्यूच्यूअल फंड्स कितने प्रकार के होते है?) की जानकारी सभी महत्पूर्ण जानकारी दिया गया है।

FAQ – Types of Mutual Funds

Q.1 - Mutual Fund में कितना रिटर्न मिलता है?

यदि कोई भी व्यक्ति म्यूच्यूअल फण्ड में 1500 रूपए प्रति महीना 30 वर्षों तक निवेश करता है तो उस व्यक्ति को ज्यादे से ज्यादे 52-53 लाख रूपए तक मिल सकता है। यह निवेश आप एसआईपी के जरिए कर सकते है, जहां जोखिम कम और 10 से 12% तक का रिटर्न मिल सकता है।

Q.2 - Mutual Fund स्कीम क्या है?

म्यूच्यूअल फण्ड एक ऐसा स्कीम हो बहुत सारे निवेशकों की धनराशि जमा होने पर ही म्यूच्यूअल फंड का निर्माण होता है। इस फंड के प्रबंधन के लिए फंड प्रबंधक नियुक्त होते हैं। जो आपके पैसे को को अलग-अलग जगहों पर निवेश करके आपको ज्यादे से ज्यादे रिटर्न देने का प्रयाश करता है।

Conclusion – Types of Mutual Funds

दोस्तों, आज के पोस्ट में हमने आपको म्यूच्यूअल फंड कितने प्रकार के होते हैं? के बारे में सभी महत्पूर्ण जानकारी दिए है। उम्मीद करता हूँ की आपको हमारी इस पोस्ट Types of Mutual Funds की जानकारी पसंद आई होगी।

आप लोगों से निवेदन है कि इस पोस्ट Types of Mutual Funds को ज्यादा से ज्यादा करें, ताकि लोग म्यूच्यूअल फण्ड की जानकारी प्राप्त कर सकें। यदि आप में से किसी को हमारी इस पोस्ट Types of Mutual Funds in Hindi से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताये। धन्यवाद्!!

अगर आपको यह पसंद पोस्ट Types of Mutual Funds in Hindi आई है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें! और हमे Facebook पर भी फॉलो कर सकते है..!! धन्यवाद

Spread the love

Leave a Comment