Dard Bhari Shayari In Hindi | Dard Bhari Shayari Status

Dard Bhari Shayari Status, दर्द शायरी लव, रात की दर्द भरी शायरी, shayari, dard bhari zindagi hindi, अपना दर्द शायरी, मोहब्बत की गम भरी शायरी, प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में, Images for dard bhari shayari status, रिश्तों की दर्द भरी शायरी, शायरी दर्द भरी ज़िन्दगी हिंदी फोटो, Dard Love Shayari In Hindi, Dard Bhari Status Whatsapp, Dard Bhari Shayari Status

Best Dard Bhari Shayari In Hindi

जो नजर से गुजर जाया करते हैं, वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं,
कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते, बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।

जोड़कर रिश्ता मोहब्बत का किसी से, उसे तन्हा अकेले छोड़ा नहीं जाता,
कांच से होते है यह दिल के रिश्ते, इन दिल के रिश्तों को यु ही तोड़ा नहीं जाता।

Dard Bhari Shayari in hindi

चीज़ बेवफ़ाई से बढ़कर क्या होगी, ग़म-ए-हालात जुदाई से बढ़कर क्या होगी,
जिसे देनी हो सज़ा उम्र भर के लिए सज़ा तन्हाई से बढ़कर क्या होगी।

प्यार सभी को जीना सिखा देता है, वफा के नाम पर मरना सिखा देता है,
प्यार नहीं किया तो कर के देख लो यारों, जालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।

Read Also :- Romantic Shayari in Hindi | हिंदी रोमांटिक शायरी

जिस दिल में बसा था नाम तेरा हमने वो तोड़ दिया,
न होने दिया तुझे बदनाम बस तेरे नाम लेना छोड़ दिया।

आँसू भी आते हैं और दर्द भी छुपाना पड़ता है,
ये जिंदगी है साहब यहां जबरदस्ती भी मुस्कुराना पड़ता है।

आँसू भी आते हैं और दर्द भी छुपाना पड़ता है,
ये जिंदगी है साहब यहां जबरदस्ती भी मुस्कुराना पड़ता है।

दर्द दे कर मोहोब्बत ने हमे रुला दिया,
जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया,
हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे,
मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया।

बहुत दर्द है ऐ जान-ए-अदा तेरी मोहब्बत में,
कैसे कह दूँ कि तुझे वफ़ा निभानी नहीं आती‌।

खोए हुए आंसुओं से मोहब्बत मुझे भी है, तेरी तरह ज़िन्दगी से शिकायत मुझे भी है,
तू अगर नाज़ुक है तो पत्थर मैं भी नहीं, तन्हाई में रोने की आदत मुझे भी है।

Read Also :- Attitude Shayari in Hindi | एटीट्यूड शायरी

आँखों में उमड़ आता है बादल बन कर,
दर्द एहसास को बंजर नहीं रहने देता।

जरा सी आहट होती है, तो तेरा ख्याल आता है,
जरा मुझको भी बताना कि कैसे भूला जाता है।

Dard Bhari Shayari in Hindi 160

Dard Bhari Shayari, Dukh Gam Bhari Shayari, Gam Dukh Dard Bhari Shayari in Hindi, Best Dard Bhari Shayari, Dard Bhari Shayari Photo, Purani Dard Bhari Shayari Status

अब बस भी कर ज़ालिम, कुछ तो रहम खा मुझ पर,
चली जा मेरी नज़र से दूर कहीं मैं शायर ना बन जाऊं।

नाराजगी चाहे कितनी भी क्यों ना हो,
पर तुझे छोड़ देने का ख्याल हम आज भी नहीं रखते।

यह इश्क का जुआ हम भी खेल चुके हैं दोस्त,
रानी किसी और की हुई और जोकर हम बन गए।

बहुत दर्द हैं ऐ जान-ए-अदा तेरी मोहब्बत में,
कैसे कह दूँ कि तुझे वफ़ा निभानी नहीं आती।

मत किया कर ऐ दिल किसी से मोहब्बत इतनी,
जो लोग बात नहीं करते वो प्यार क्या करेंगे।

हम उम्मीदों की दुनियां बसाते रहे, वो भी पल पल हमें आजमाते रहे,
जब मोहब्बत में मरने का वक्त आया, हम मर गए और वो मुस्कुराते रहे।

Mohabbat Dard Bhari Shayari

बाते तो बहुत करते हो, इश्क-ओ-ख़ुलूस की तुम,
ज़रा अपने दिल में तो देख लो में हूँ भी या नहीं।

वो देता है दर्द बस हमी को,
क्या समझेगा वो इन आँखों की नमी को,
​चाहने वालों की भीड़ से घिरा है जो हर वक़्त,
वो महसूस ​क्या ​करेगा ​बस ​एक हमारी कमी को। ​

गुलशन की बहारों पे सर-ए-शाम लिखा है,
फिर उस ने किताबों पे मेरा नाम लिखा है,
ये दर्द इसी तरह मेरी दुनिया में रहेगा,
कुछ सोच के उस ने मेरा अंजाम लिखा है।

दोस्त दोस्त नहीं खुदा होता है महसूस होता है जब वो जुदा होता है,
बिना दोस्त के जीना सजा होता है और दोस्त तुम जैसा हो तो जीवन में मज़ा होता है।

वो नही आती पर अपनी निशानी भेज देती है,
ख्वाबो में दास्ताँ पुरानी भेज देती है,
उसकी यादों के पल कितने भी मीठे हैं,
मगर कभी कभी आँखों में पानी भेज देती है।

अगर वो खुश है देखकर आंसू मेरी आंखों में, तो रब की कसम हम मुस्कुराना छोड़ देंगे,
तड़पते रहेंगे उसे देखने के लिए, लेकिन उसकी तरफ नज़रें उठाना छोड़ देंगे।

पलकों से आंसू न निकले तो दर्द बड जाता है,
उसके साथ बिताया हुआ हर पल याद आता है,
शायद वो हमें अभी तक भूल गए होंगे,
पर अभी भी उसका चेहरा सपनो में नज़र आता है।

Dard Bhari Shayari in Hindi for Girlfriend

Zindgi Dard Bhari Shayari , Dard Bhari Shayari Hindi Mein, Sabse Dard Bhari Shayari, Mohabbat Dard Bhari Shayari Hindi Mai, Pyari Dard Bhari Shayari

नींद आती ना थी जिसको कभी मेरी सूरत देखे बगैर,
आज वो लोगों से कहता फिरता है मुझे ये शख़्स कहीं देखा सा लगता है।

चाँद के बिना अँधेरी रात रह जाती है साथ कुछ हसीन मुलाकात रह जाती है,
सच है जिंदगी कभी रूकती नहीं, बस वक्त निकल जाता है और याद रह जाती है।

तकलीफ ये नहीं कि तुम्हें अज़ीज़ कोई और है,
दर्द तब हुआ जब हम नजरंदाज किए गए।

हमने कब माँगा हैं तुमसे, अपनी वफाओ का सिला,
बस दर्द देते रहा करो मोहब्बत बढ़ती जाएगी।

ज़माने में किसी पर ऐतबार मत करना, किसी की चाहत में दिल बेकरार मत करो,
या तो हौंसला रखो दर्द-ए-दिल सहने का या फिर किसी से इश्क मत करो।

बुरा तो तब लगता है, जब हम एक ही इंसान से,
बात करना चाहते हो और वो हमे इग्नोर करता है।

ये तो जमीन की फितरत है, कि वो हर चीज को मिटा देती है,
वरना तेरी यादों में गिरने वाले आंसुओं का अलग समंदर होता।

मुस्कुराने से भी होता है दर्द-ए-दिल बयां,
किसी को रोने की आदत हो ये जरूरी तो नहीं।

मुझसे जो नज़रे चुराने लगे हो, लगता है कोई और गली जाने लगे हो,
ख्वाब जो देखे हम दोनों ने मिलके धीरे धीरे क्यों दफ़नाने लगे हो।

हादसे इंसान के संग मसखरी करने लगे,
लफ्ज कागज पर उतर जादूगरी करने लगे,
कामयाबी जिसने पाई उनके घर बस गए,
जिनके दिल टूटे वो आशिक शायरी करने लगे।

दर्द बन के दिल में छुपा कौन है, रह रह कर इसमें चुबता कौन है,
एक तरफ दिल है और एक तरफ आइना, देखना है इस बार पहले टूटता कौन हो।

जहाँ खामोश फिजा थी, साया भी न था, हमसा कोई किस जुर्म में आया भी न था,
न जाने क्यों छिनी गई हमसे हंसी हमने तो किसी का दिल दुखाया भी न था।

भुला कर तुझको मै संभल तो गया हूं, लेकिन अंदर से अभी भी टूटा हुआ हूं,
मेरा मन तो खुश है तेरे जाने के बाद, लेकिन दिल से अभी भी रूठा हुआ हूं।

Zindgi Dard Bhari Shayari

मत पूछा करो रात भर जागने की वजह हटें,
मोहब्बत मैं कुछ सवालों के जवाब नहीं होते।

जाने लागे जब वो छोड़ के दामन मेरा, टूटे हुए दिल ने एक हिमाक़त कर दी,
सोचा था कि छुपा लेंगे ग़म अपना, मगर कमबख्त आँखों ने बगावत कर दी।

बेदर्द दुनिया में अभी जीना सीख रहा हूँ,
अभी तो मैं दुखों के जाम पीना सीख रहा हूँ,
कोशिश करूंगा तुम्हे मैं भी भुलाने की,
अभी तो मैं तेरे झूठे वादों को भुलाना सीख रहा हूँ।

कितना मज़ा ले रहे हैं लोग मेरे दर्द-ओ-ग़म का,
ऐ इश्क़ देख तूने तो मेरा तमाशा ही बना दिया।

वो न मिला तो क्या हुआ ये इश्क था हवस नहीं,
मैं उन्हीं का था, मैं उन्हीं का हूं वो मेरा नहीं तो न सही।

तुझसे पहले भी कई जख्म थे सीने में मगर,
अब के वह दर्द है दिल में कि रगें टूटती हैं।

इस बहते दर्द को मत रोको, ये सजा हैं किसी के इंतज़ार की,
लोग इन्हे आंसूं कहे या दीवानगी पर ये तो निशानी है किसी के प्यार की।

लिखूं कुछ आज यह वक़्त का तकाजा है, मेरे दिल का दर्द अभी ताजा-ताजा है,
गिर पड़ते हैं मेरे आंसू मेरे ही कागज पर लगता है कि कलम में स्याही का दर्द ज्यादा है।

जब सीना ग़म से भोजल हो और याद किसी की आती हो,
तब कमरे में बंद हो जाना और चुपके चुपके रो लेना।

ग़म के दरियाओं से मिलकर बना है यह सागर,
आप क्यों इसमें समाने की कोशिश करते हो,
कुछ नहीं है और इस जीवन में दर्द के सिवा,
आप क्यों इस ज़िंदगी में आने की कोशिश करते हो।

ठोकर खाते हैं और मुस्कराते हैं, इस दिल को सब्र करना सिखाते हैं,
हम दर्द लेकर भी लोगों को याद करते हैं, और लोग दर्द देकर भी लोगों को भूल जाते हैं।

हादसे इंसान के संग मसखरी करने लगे, लफ्ज कागज पर उतर जादूगरी करने लगे,
कामयाबी जिसने पाई उनके घर बस गए, जिनके दिल टूटे वो आशिक शायरी करने लगे।

ना हम रहे दिल लगाने के क़ाबिल ना दिल रहा गम उठाने के क़ाबिल,
लगा उसकी यादों के जो ज़ख़्म दिल पर ना छोड़ा उस ने मुस्कुराने के क़ाबिल।

मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनिया में,
इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं।

खून बन कर मुनासिब नहीं दिल बहे, दिल नहीं मानता कौन दिल से कहे,
तेरी दुनिया में आये बहुत दिन रहे, सुख ये पाया कि हमने बहुत दुःख सहे।

साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती, दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती,
अजीब लोग हैं इस ज़माने में ऐ दोस्त कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती।

नींद रातों की उड़ चुकी है मेरी, सो जाऊ तो तेरा सपना आता है,
तुझे पाना चाहता हूं लेकिन डर लगता है, धोखा खा ना लेना फिर से ये दिल कहता है।

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,
हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,
ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम।

धीरे-धीरे से अब तेरे इश्क़ का दर्द कम हुआ,
ना तेरे आने के खुशी ना तेरे जाने का गम हुआ,
जब लोग मुझसे पूछते हैं, हमारे प्यार की दास्तान,
कह देता हूँ एक फसाना था, जो अब खत्म हुआ

तो दोस्तों उम्मीद है। की आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आयी होगी ऐसे ही लेटेस्ट अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया (Facebook & Instagram ) को अवश्य फॉलो कर लीजिये|

Spread the love

Leave a Comment