ATM Full Form in Hindi | एटीएम का फुल फॉर्म क्या है?

नमस्कार दोस्तों, आज के इस लेख में हम आपके लिए बहुत रोचक और नई जानकारी लेकर आये है। जिसके बारे में आप सब ने जरूर सुना होगा, आप में से बहुत लोगों ने तो उसका उपयोग भी किया होगा। दोस्तों आज के इस लेख में हम ”ATM” के बारे में बात करेंगे। ATM का उपयोग आप में से बहुत लोग करते होंगे।

ATM ka full form:- दोस्तों इस लेख में ”ATM” के बारे में सभी महत्पूर्ण जानकारी की विस्तार से चर्चा करेंगे, इस लेख हम जानेंगे ATM का पूरा नाम हिंदी में क्या है?, ATM के आविष्कारक कौन है?, ATM क्या है?, ATM Full form, ATM Full Form in Hindi, ATM का फुल फॉर्म हिंदी में बताइए, ATM का दूसरा नाम क्या है? जैसे महत्पूर्ण प्राप्त करेंगे।

ATM का उपयोग आप लोगों ने अपने रोजमर्रा की आवश्यकता के अनुसार जरूर किया होगा, जैसे ऑनलाइन शॉपिंग, ऑनलाइन फण्ड ट्रांसफर, पैसा की जमा और निकासी जैसे महत्पूर्ण कार्य करते होंगे। आज के इस डिजिटल युग में आपको ATM को बहुत सावधानी से उपयोग करने की जरुरत है। अन्यथा आपके साथ धांधली भी हो सकता है।

यदि आपको आपको धांधली से बचाना है, या ATM सम्बन्धी कोई अन्य जानकारी के लिए आप हमारी इस पोस्ट को ध्यानपूर्वक पढ़े।

What is ATM (ATM क्या है?)

ATM एक प्रकार Electronic Telecommunication Device है। ATM का उपयोग हमलोग वित्तीय लेनदेन (Financial Transactions) करने के लिए करते है, जैसे ऑनलाइन शॉपिंग, ऑनलाइन फण्ड ट्रांसफर, पैसा की जमा और निकासी जैसे महत्पूर्ण कार्य करते है। ATM बैंकों में भीड़ और अन्य बैंकिंग प्रक्रिया को आसान बना दिया है।

ATM एक ऐसा बैंकिंग से सम्बंधित मशीन जो ग्राहक के जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाया गया है। जो आपके निर्देशों के के अनुसार कार्य करता है। जैसे यदि आप निकासी करना चाहते हो तो सिर्फ निकासी सम्बंधित प्रश्न पूछ कर निकासी कर दिया जाता है। ATM एक समय सिर्फ एक कार्य कर सकता है।

ATM Card क्या होता है? :- किसी भी बैंक के द्वारा दिया गया विशेष कार्ड होता है। ATM Card में खाताधारक की विशेष जानकारी इनस्टॉल (Install) किया रहता है। इस कार्ड को बैंक से सम्बंधित कुछ खास मशीन के लिए बनाया जाता है। ATM Card एक विशेष प्रकार की प्लास्टिक और अन्य वस्तु से बना होता है।

ATM Card के Magnetic Strip Chip लगा रहता है। इसमें खाताधारक का Identification Code मौजूद होता है। यह बैंक Central Modem के द्वारा प्रेषित किया होता है। जिस प्रकार बैंक अकाउंट दो प्रकार का होता है, उसी प्रकार ATM Card मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है। Debit Card और Credit Card.

ATM Full Form In Hindi (ATM का पूरा नाम हिंदी में क्या है?)

  • A – AUTOMATED (स्वचालित)
  • T –  TELLER  (गणक)
  • M – MACHINE (मशीन)

ATM Full Form:- ATM का फुल होता है :- Automated Teller Machine (ऑटोमेटेड टेलर मशीन) ATM मशीन नाम से प्रतीत होता है कि स्वचालित (Automated) मशीन है। परन्तु जब तक आप ATM में कोई भी डाटा इनपुट नहीं करोगे, तब तक ATM मशीन आपको किसी भी प्रकार का आउटपुट नहीं देगा।

ATM Full Form In Hindi:- ATM ऑटोमेटेड टेलर मशीन (Automated Teller Machine) ऑटोमेटेड का का मतलब हिंदी में स्वचालित होता है। टेलर (Teller) का मतलब होता है गणक होता है, बैंक में जो कर्मचारी आपके साथ लेन-देन करता है, उसे आधिकारिक तौर पर ”Teller” कहा जाता है। यह मशीन भी हमें नगदी देता है इसलिए इसे गणक (Teller) कहा जाता है। मशीन का मतलब यंत्र  होता है।

ATM Full Form In Hindi:- आम भाषा में समझे तो ATM को हिंदी भषा में स्वचालित गणक मशीन कहा जाता है।

Read Also

Type Of ATM In Hindi  (ATM कितने प्रकार के होते हैं?)

  • Offline ATM :- Offline ATM बैंक के डेटाबेस से जुड़ा नहीं होता है। इसमें आप अकाउंट में पैसा ना होने पर भी राशि निकाल सकते है। इसके लिए बैंक आप से कुछ फी चार्ज करता है।
  • Online ATM :- Online ATM बैंक के डेटाबेस से 24 घंटे जुड़े रहने वाले ATM को ऑनलाइन एटीएम कहते है। जिससे आप अपने अकाउंट में रखे शेष राशि से अधिक पैसा नहीं निकाल सकते है।
  • On Site ATM :- On Site ATM बैंक परिसर के अंदर लगाये गए ATM को ऑनसाइट ATM के कहा जाता है।
  • Off Site ATM :- Off Site ATM बैंक परिसर के बाहर विभिन्न स्थानों पर मौजूद ATM को ऑफसाइट ATM के रूप में जाना जाता है।
  • Yellow Label ATM :- Yellow Label ATM E-Commerce सेवा के लिए प्रदान किया जाता है।
  • Brown Label ATM :- Brown Label ATM  इस प्रकार के ATM हार्डवेयर और ATM मशीन के पट्टे पर सर्विस देने का मालिकाना हक़ होता है, लेकिन बैंकिंग नेटवर्क के लिए कैश मेनेजमेन्ट और कनेक्टिविटी एक बैंक द्वारा प्रदान किया जाता हैं।
  • Pink Label ATM :- Pink Label ATM इस प्रकार के  ATM केवल महिलाओं के लिए प्रदान किया जाता है।
  • Green Label ATM :- Green Label ATM इस प्रकार के  ATM कृषि संबंधित लेनदेन के लिए प्रदान किए जाते हैं।
  • White Label ATM :- White Label ATM इस प्रकार के ATM नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कम्पनीयों द्वारा स्थापित किया गया है।
  • Orange Label ATM :- Orange Label ATM शेयर ट्रांजेक्शन के लिए प्रदान किया जाता है।

History Of ATM (एटीएम  का इतिहास)

आधुनिक ATM मशीन का आविष्कार का श्रेय जॉन शेफर्ड-बैरोन (John Shepherd-Barron) और उनके टीम को जाता है। माना जाता है कि जॉन शेफर्ड-बैरोन (John Shepherd-Barron) का जन्म भारत 23 जून, 1925 को भारत के पूर्वोत्तर स्थित राज्य मेघालय की राजधानी शिलांग में हुआ था।

वर्ष 1965 कि बात है ,कहा जाता है कि जॉन शेफर्ड-बैरोन (John Shepherd-Barron) को एक दिन पैसे की जरूरत पड़ी तो वे बैंक गए, लेकिन एक मिनट की देरी से पहुंचे तो देखा कि बैंक बंद हो चुका था। इस वजह से उस दिन वे पैसे नहीं निकाल पाए। वापस आते समय उन्होंने एक Automatic चॉकलेट मशीन देखा। यहीं से उन्होंने सोच जब चॉकलेट मशीन से निकल सकता है तो पैसा क्यों नहीं?

यहीं आईडिया जॉन शेफर्ड-बैरोन (John Shepherd-Barron) ने अपनी इंजीनियरिंग टीम के साथ साझा किया और और इस पर कार्य करने के बारे सोचा। 27 जून, 1967 को आधुनिक एटीएम की पहली पीढ़ी लंदन के बार्केले बैंक (Barclays Bnk) ने सफलता पूर्वक उपयोग किया था। उस समय क्रेडिट कार्ड के जरिये इसकी सेवाओं का उपयोग किया जाता था।

ATM का उपयोग करने वाले पहले व्यक्ति कॉमेडी एक्टर रेग वरने (Ragn Warren) थे। जॉन शेफर्ड-बैरोन (John Shepherd-Barron) का निधन 84 वर्ष की उम्र में 2010 में स्कॉटलैंड में हो गया।

भारत में पहली बार वर्ष 1987 में एटीएम की सुविधा शुरुआत हुआ था। भारत में पहला एटीएम हॉगकॉग एंड शंघाई बैंकिंग कॉरपोरेशन (एचएसबीसी) ने मुंबई में लगाया था। भारत में तैरना वाला पहला एटीएम केरल के कोच्चि के एक झंकार नौका पर 04 फरवरी 2004 को केरल शिपिंग इंग्लैंड नेविगेशन कॉर्पोरशन (KSINC) के द्वारा लगाया गया है।

Read Also

ATM से सम्बंधित सावधानी

अगर आपके पास एटीएम कार्ड है, तो आपको सावधान रहने कि जरूरत ज्यादा है, क्योकि आपकी एक छोटी से गलती आपको भारी नुकसान पहुंचाया जा सकता है।

  • पिन शेयर न करें
  • पिन कहीं लिख पर गुप्त स्थान पर रखे।
  • पिन समय-समय पर बदलते रहिये।
  • अपना कार्ड नंबर और CVV नंबर किसी से शेयर न करें।
  • ऑनलाइन फ्रॉड के बचें।
  • अपना ओटीपी पिन किसी को भी न बताये।
  • आने वाले फर्जी फ़ोन कल से सावधान रहे।

ATM का फायदा

  • नकद जमा करना
  • नकदी की निकासी
  • नकदी का हस्तांतरण
  • खातों का विवरण
  • मिनी स्टेटमेंट
  • बिल का नियमित भुगतान
  • खाता शेष विवरण
  • प्रीपेड मोबाइल का रिचार्ज
  • पिन कोड बदलें

Conclusion

दोस्तों आज के इस लेख में हमने एटीएम से सम्बंधित सभी जानकारी आपको देने का पूरा प्रयास किया है, जिसमे :- ATM Full Form, ATM Full Form In Hindi,  ATM Ka Full Form Kya Hai, ATM Ka Full Name, ATM Ka Pura Naam, ATM Meaning In Hindi,  ATM का फुल फॉर्म अंग्राजी में, How ATM Works How ATM, What Is ATM And Types Of ATM, What Is ATM Card.

यदि हमारी यह लेख (ATM Full Form) आपको अच्छी लगी हो तो आप हमारी इस लेख (ATM Full Form in hindi) को अपने दोस्तों , परिवार और सोशल मीडिया पर साझा करे, ताकि ATM Full Form सम्बंधित इस जानकारी का लाभ ओर सब भी उठा सके।

दोस्तों इस लेख में हमने आपको सबसे बेहतर तथ्य देने का भरपूर प्रयास किया है, यदि आपको हमारी इस पोस्ट किसी भी प्रकार की कमी महसूस हो रही है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है।इस पोस्ट ATM Full Form in hindi से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव है तो वह भी आप हम से आप शेयर करें। धन्यवाद्।।

Spread the love

Leave a Comment